7 Wonders of the World in Hindi | दुनिया के सात अजूबे |

0
231
7 Wonders of the World in Hindi

7 Wonders of the World : Duniya Ke Saat Ajoobe Ke Naam Aur Photo 2023: माना जाता है कि दुनिया के सात अजूबे प्राचीन काल से चुने गए हैं, लेकिन आज भी कई लोग इनसे अनजान हैं। आज हम आपको इसी विषय को तस्वीरों के माध्यम से समझाएंगे। अजूबों की पहली सूची बनाने वाले हेरोडोटस और कैलिमैचस को 2200 साल पहले अजूबों को चुनने का मूल विचार रखने का श्रेय दिया जाता है।
भले ही उनके द्वारा चुने गए अजूबे नष्ट हो गए हों, इनमें 7 Wonders of the World शामिल थे, इसलिए नए अजूबों पर विचार किया जा रहा था। संभावित नए चमत्कारों की एक सूची कुछ वैज्ञानिकों और इंजीनियरों द्वारा संकलित की गई थी, लेकिन इसे सभी ने स्वीकार नहीं किया था। इसके बाद अजूबों को चुनने का एक अनोखा तरीका अपनाया गया।
भले ही प्रकृति द्वारा बनाई गई ऐसी और भी कई चीजें हैं जो देखने में खूबसूरत हैं, लेकिन अगर आपने इस लेख से इस अनूठी प्रक्रिया के बारे में जाना, तो इस सूची की चीजें दुनिया के सात अजूबे 2023 को चमत्कार माना जाता है क्योंकि वे लोगों द्वारा बनाई गई थीं। लेकिन क्योंकि प्रकृति अपने आप में एक अजूबा है, उन्हें ज्यादा महत्व नहीं दिया जाता है।

चमत्कार पैदा करना प्रकृति में निहित है, लेकिन हम एक मानव निर्मित वस्तु को देखते हैं जो अपने आप में एक चमत्कार के रूप में अजीब है। नई पद्धति के परिणामस्वरूप, आइए दुनिया के सात प्राकृतिक अजूबों पर चर्चा करें। मुझे आशा है कि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी।

प्रकृति स्वाभाविक रूप से चमत्कार पैदा करती है, लेकिन हम एक मानव निर्मित वस्तु को देखते हैं जो अपने आप में एक चमत्कार के रूप में अजीब है। चूंकि दृष्टिकोण बदल गया है, आइए दुनिया के 7 Wonders of the World पर चर्चा करें। मुझे आशा है कि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी।

दुनिया के सात अजूबे 7 Wonders of the World Names in Hindi

  1. चीन की दीवार
  2. ताजमहल
  3. पेट्रा
  4. क्राइस्ट रिडीमर
  5. माचू पिच्चु
  6. कोलोज़ीयम
  7. चिचेन इत्जा

7 Wonders of the World कैसे चुने गए

7 Wonders of the World की सूची में नए अजूबों को जोड़ने की अवधारणा 1999 में उभरी; परिणामस्वरूप, नए अजूबों को चुनने की पहल की देखरेख के लिए स्विट्जरलैंड में एक फाउंडेशन की स्थापना की गई।
इस फाउंडेशन ने एक वेबसाइट बनाई जहां सबसे पहले करीब 200 वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स की लिस्ट बनाई गई। फिर एक ऑनलाइन और मोबाइल पोल लॉन्च किया गया।
इस पोल में लगभग 100 मिलियन लोगों ने ऑनलाइन और मोबाइल उपकरणों पर अपना वोट डाला।
लंबे समय तक मतदान हुआ और 2007 में परिणामों की घोषणा हुई। दुनिया के नए सात अजूबे, जिन्हें लोकप्रिय वोट द्वारा चुना गया था, अब हमारे सामने थे।

7 Wonders of the World, निर्माण और स्थान

दुनिया के सात अजूबे के नाम, निर्माण और स्थान

अजूबे का नामनिर्माणस्थान
चीन की दीवार8वीं शताब्दीचीन
माचू पिच्चु1430 ई.पेरू
ताजमहलसन 1632भारत
पेट्रा309 ई.पूजोर्डन
चिचेन इत्जा514 ई.पूमैक्सिको
क्राइस्ट रिडीमरसन 1931ब्राजील
कोलोज़ीयम80 ई.पूइटली

दुनिया के सात अजूबे Duniya Ke Saat Ajoobe Ke Naam | 7 Wonders of the World

1. चीन की दीवार (Great Wall of China)

उत्तरी आक्रमणकारियों को रोकने के लिए, चीन की महान दीवार का निर्माण पहले विभिन्न राज्यों के कई राजाओं द्वारा किया गया था, जिसमें बाद में धीरे-धीरे अतिरिक्त खंड जोड़े गए। अपने आकार के कारण इस दीवार को अंतरिक्ष से भी देखा जा सकता है।


इसका निर्माण सातवीं और सोलहवीं शताब्दी के बीच हुआ था। करीब 6400 किलोमीटर लंबी और 35 फीट ऊंची यह दीवार पूर्वी चीन को पश्चिमी चीन से जोड़ती है।
हालाँकि, अगर हम इसकी चौड़ाई की बात करें तो दस लोग एक साथ आराम से इस पर चल सकते हैं। इस दीवार को बनाने के लिए उस समय भूमि, चट्टान, लकड़ी, ईंट आदि का उपयोग किया गया था। माना जाता है कि इस दीवार को बनाने में करीब 20 से 30 लाख लोगों की जान गई है।

2. ताजमहल आगरा इंडिया (Tajmahal India)

इनमें से एक ताजमहल है, जो भारत के आगरा में स्थित है। मुग़ल बादशाह शाहजहाँ ने अपनी पत्नी मुमताज़ के सम्मान में ताजमहल बनवाया।
ताजमहल, मानव रचनात्मकता का एक उत्कृष्ट उदाहरण, 1632 में बनाया गया था; परियोजना के पूरा होने में लगभग 15 वर्ष लगे।
शाहजहाँ ने ताजमहल के निर्माण के लिए दुनिया भर से सफेद संगमरमर के पत्थरों का आयात किया था। ताजमहल के चारों ओर एक बगीचा है, जो पूरी तरह से सफेद संगमरमर से बना है। यह दुनिया भर से आगंतुकों को आकर्षित करना जारी रखता है।

3. पेट्रा जॉर्डन (Petra Jordan)

पेट्रा जॉर्डन के मआन प्रान्त में बसी एक एतिहासिक नगरी है जो बड़ी बड़ी चट्टानों और पत्थर से तराशी गई इमारतों के लिए जानी जाती है। इस नगरी में आपको पत्थर से तराशी गयी एक से बढ़कर एक इमारतें देखने को मिल जाएँगी ऐसा माना जाता है कि इसका निर्माण कार्य 1200 ईसापूर्व के आसपास शुरू हुआ था।

वहीं आज के समय की बात करे तो आज ये शहर मशहूर पर्यटन स्थल के रूप में जाना जाता है। पेट्रा को युनेस्को द्वारा एक विश्व धरोहर होने का दर्जा मिला हुआ है साथ ही यह नगरी विश्व के सात अजूबे में भी शामिल है।

4. क्राइस्ट रिडीमर ब्राजील (Christ the Redeemer Brazil)

यह ब्राज़ील के रियो डी जेनेरो में स्थापित ईसा मसीह की एक प्रतिमा है जो दुनिया की सबसे ऊँची मूर्तियों में से एक है यह मूर्ति तिजुका फोरेस्ट नेशनल पार्क में कोर्कोवाडो पर्वत की चोटी पर स्थित है। आपको बता दे कि इस मूर्ति का आधार 31 फिट है जिसे मिलाकर इसकी कुल उंचाई 130 फिट बनती है वहीं इसकी चौड़ाई 98 फिट है।

इसका वजन लगभग 635 टन है माना जाता है इसका निर्माण 1922 और 1931 के बीच किया गया था। मजबूत कांक्रीट और सोपस्टोन से बनी है इस मूर्ति का डिजाईन ब्राजील के सिल्वा कोस्टा ने किया था फ्रेंच के महान मूर्तिकार लेनदोव्सकी ने इसे बनाकर तैयार किया था।

5. माचू पिच्चु पेरू (Machu Picchu Peru)

दुनिया के अजूबे में शामिल माचू पिच्चु दक्षिण अमेरिकी देश पेरू मे स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है जहां कोलम्बस पूर्व युग, इंका सभ्यता रहा करती थी। समुद्र तल से इस ऐतिहासिक स्थल की उंचाई 2430 मीटर है अब सोचने वाली बात है कि इतनी उंचाई पर लोग कैसे रहा करते थे यह स्थल कुज़्को से 80 किलोमीटर (50 मील) उत्तर पश्चिम में स्थित है।

शोधकर्ताओं के अनुसार माना जाता है कि इसका निर्माण 1400 के आसपास राजा पचाकुती ने करवाया था हालाकि बाद में इस स्थान पर स्पेन ने विजय प्राप्त की थी और इसे ऐसे ही छोड़ दिया गया था जिसके बाद यहां की सभ्यता धीरे धीरे नष्ट हो गयी है लेकिन 1911 में अमेरिका के इतिहासकार हीरम बिंघम ने इसकी खोज की थी और इस एतिहासिक स्थल को दुनिया के सामने लाया गया था।

6. कोलोज़ीयम रोम (Colosseum Rome)

यह इटली देश के रोम नगर के मध्य निर्मित विशाल स्टेडियम है जहां प्राचीन काल में जानवरों की लड़ाई, खेल कूद, सांस्कृतिक कार्यक्रम आदि हुआ करते थे। इसका निर्माण तत्कालीन शासक वेस्पियन ने 70वीं – 72वीं ईस्वी के मध्य प्रारंभ किया और 80वीं ईस्वी में इसको सम्राट टाइटस ने पूरा किया था।

यह विश्व की बहुत पुरानी वास्तुकलाओं में से एक है.

हालाकि प्राकृतिक आपदा और भूकंप आदि से यह थोड़ा बहुत नष्ट हुआ है लेकिन आज भी इसकी विशालता वैसे ही है.

इस स्टेडियम में प्राचीनकाल में 50 हजार से 80 हजार लोग एक साथ बैठ सकते थे। इस स्टेडियम को कंक्रीट और रेत से बनाया गया है अपनी विशालता के कारण यह इस लिस्ट में शामिल है।

7. चीचेन इट्ज़ा मैक्सिको (Chichen Itza Maxico)

चीचेन इट्ज़ा मक्सिको का प्राचीन और विश्व प्रसिद्ध मायन मंदिर है जिसका निर्माण 600 ईशा पूर्व में हुआ था आपको बता दे कि यह मंदिर 5 किलोमीटर के दायरे में फैला हुआ है यह मंदिर पिरामिड की आकृति का है जिसकी उंचाई 79 फिट है इसके ऊपर जाने के लिए चारों ओर सीढियाँ बनाई गयी हैं।

इसकी हर दिशा में 91 सीढियाँ हैं इस तरह कुलमिलाकर इसमें 365 सीढियाँ हैं जो एक साल के 365 दिन का प्रतीक है चीचेन इट्ज़ा माया का सबसे बड़ा शहर है इसकी जनसँख्या भी काफी अधिक है।

FAQs Duniya Ke 7 Ajoobe से संबंधित

दुनिया के सबसे पुराने अजूबे कौन से है?

कोलोसियम, जो इटली में है, इस सूची में दुनिया का सबसे पुराना आश्चर्य है। 80 ईसा पूर्व में बनने से पहले जितने अजूबे नष्ट हो चुके थे, यह इंसानों द्वारा बनाया गया पहला अजूबा नहीं है।

दुनिया का 8 वां अजूबा कौन सा है?

इस आर्टिकल में आप 7 Wonders of the World के बारे में जान गए होंगे लेकिन काफी लोग आठवे अजूबे के बारे में भी जानना चाहते हैं तो आपको बता दे कि अजूबे तो काफी हैं लेकिन इसमें सिर्फ टॉप 7 को ही मुख्यता दी जाती है अगर आठवे की तरफ जायेंगे तो इसमें सरदार बल्लभ भाई पटेल की मूर्ति का भी नाम आ सकता है।

दुनिया के 7 अजूबे कब खोजे गए थे?

आपने इस लेख में 7 Wonders of the World के बारे में जाना होगा, लेकिन कई पाठक आठवें अजूबे के बारे में भी जानने में रुचि रखते हैं। उस अंत तक, हम आपको सूचित करेंगे कि कई अजूबे हैं, लेकिन इस लेख में केवल शीर्ष सात को ही प्राथमिकता दी गई है। इसमें सरदार वल्लभभाई पटेल की मूर्ति का नाम भी शामिल हो सकता हैभारत का सबसे बड़ा अजूबा कौन सा है?

भारत में कई प्राकृतिक अजूबे हैं, लेकिन ताजमहल घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों पर्यटकों के लिए शीर्ष आकर्षण के रूप में खड़ा है। ताजमहल का निर्माण भी राजाओं के समय में हुआ था, जब तकनीक अभी पूरी तरह से विकसित नहीं हुई थी।भारत में कितने अजूबे हैं?

हमारे देश में कई अजूबे हैं, लेकिन बहुत से लोग उनसे अनजान हैं। आपको बता दें कि भारत के सात अजूबे हैं, जिनमें ताजमहल सूचीबद्ध है, जबकि ताजमहल भी दुनिया के उन सात अजूबों में सूचीबद्ध है, जिन्हें आम जनता सबसे ज्यादा जानती है।

निष्कर्ष – 7 Wonders of the World in Hindi

दुनिया के 7 अजूबे के नाम से अब आप परिचित हो गए होंगे, और आपको उनके बारे में अधिक जानने में मदद करने के लिए, हमने उनकी तस्वीरें यहां शामिल की हैं। हमारे देश में ताजमहल दुनिया के सात अजूबों में से एक है, जो हमें बड़े गर्व से भर देता है।
हालांकि हर कोई अपने देश के भीतर पाए जाने वाले चमत्कारों को देखने में सक्षम है, लेकिन आर्थिक तंगी के कारण दुनिया के सात प्राकृतिक आश्चर्यों को हर कोई नहीं देख पाता है। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर करें।

यह भी पढे : रूस की जनसंख्या 2023 मे कितनी है

अभी खरीदे किफायती दाम मे केवल 450/-

अभी खरीदे किफायती दाम मे केवल 450/-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here